Indian History

What is Rigveda ऋग्वेद क्या है

Written by babajiacademy

What is Rigveda ऋग्वेद क्या है


ऋचाओं के क्रमबद्ध ज्ञान के संग्रह को ऋग्वेद कहा जाता है। इसमें निम्नलिखित चीजें शामिल होती हैं।

  1. 10 मंड़ल (Books)
  2. 1028 सूक्त/श्लोक
  3. 10,462 ऋचाएं
  4. 100 से जादा प्रार्थनाएं हैं
  • ऋग्वेद की भाषा संस्कृत है।
  • ऋग्वेद को पढ़ा और लिखा नहीं जाता है केवल इसका उच्चारण होता है।
  • इसकी पान्डुलिपी भूर्ज वृक्ष की छाल पर लिखी गई है जोकि कश्मीर से पाई गई है।
  • इसके रचयिता आर्य तथा विरोधी दास थे
  • इस वेद के ऋचाओं के पढ़नें वाले ऋषि को हैतृ कहते हैं।
  • इस वेद से आर्य के राजनीतिक प्रणाली एवं इतिहास के बारे में जानकारी मिलती है।
  • पुरुषसूक्त- जाति प्रथा का पहला संदर्भ इसी से मिलता है।
  • विश्वामित्र द्वारा रचित ऋग्वेद के तीसरे मंड़ल में सूर्य देवता सावित्री को समर्पित प्रसिद्ध गायत्री मंत्र है।
  • इसके आठवें मंड़ल की हस्तलिखित ऋचाओं को सिल कहा जाता है।
  • वामनावतार के तीव पगों के आख्यान का प्राचीनतम स्त्रोत ऋग्वेद है।
  • इसी में इन्द्र के लिए 250 तथा अग्नि के लिए 200 ऋचाओं की रचना की गयी है।

इसी तरह अन्य टापिक्स पर जादा जानकारी के लिए क्लिक करें
Like our Facebook Page.        Click Here
Visit our You Tube Channel   Click Here
 


Disclaimer:- All the information provided by www.babajiacademy.com is only for the quick information. Our effort is to provide the information up to date and correct. We make no representations or warranties of any kind, express or implied, about the completeness, accuracy, reliability, suitability or availability with respect to the website. We are not responsible for any loss to anybody or any shortcoming, defect or inaccuracy caused to anybody by the information from this website.

 

About the author

babajiacademy

Leave a Comment