Indian Polity

Cabinet Ministers of India in Hindi

Cabinet Ministers of India in Hindi: In this post, I am sharing an important information about Cabinet Ministers of India in Hindi: So read the article carefully till the end.

केंद्रीय मंत्री परिषद– अनुच्छेद 74 मंत्रिपरिषद से संबंधित है तथा 75 मंत्रियों की नियुक्ति कार्यकाल उत्तरदायित्व और दाएं शपथ एवं वेतन और भत्तों से संबंधित है।

शपथ– केंद्रीय मंत्रियों को राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाता है।

मंत्री परिषद का कार्य- सभी मंत्री परिषद लोकसभा के प्रति सामूहिक रूप से उत्तरदाई होते हैं इसका सिद्धांत यह है कि मंत्रिमंडल के निर्णय सभी केंद्रीय मंत्रियों के लिए बाध्यकारी हैं भारत के संविधान में सरकार की संसदीय व्यवस्था ब्रिटिश मॉडल पर आधारित है

मंत्रियों की संरचना– मंत्रियों को 3 श्रेणी में रखा गया है।

  1. कैबिनेट मंत्री
  2. राज्य मंत्री एवं
  3. उप राज्यमंत्री

इन तीनों  का प्रमुख प्रधानमंत्री होता है

कैबिनेट मंत्री– इन मंत्रियों की पास केंद्र सरकार के महत्वपूर्ण मंत्रालय जैसे गृह मंत्रालय रक्षा मंत्रालय वित्त मंत्रालय विदेश मंत्रालय व अन्य मंत्रालय होते हैं वह कैबिनेट के सदस्य होते हैं।

राज्य मंत्री-इन मंत्रियों को मंत्रालय विभागों का स्वतंत्र प्रभार दिया जाता है अथवा कैबिनेट मंत्री के साथ सहयोगी बनाया जाता है उन्हें केबिनेट मंत्रालय में कोई भी कार्य दिया जा सकता है लेकिन वे बैठक में भाग नहीं ले सकते।

मंत्र उपमंत्री– इन्हें मंत्रालयों का स्वतंत्र प्रभार नहीं दिया जाता है इन्हें कैबिनेट या राज्य मंत्रियों की संसदीय कार्य में सहायता हेतु नियुक्त किया जाता है।

मंत्रिपरिषद बनाम मंत्रिमंडल- मंत्रिमंडल हमारी राजनीतिक प्रशासनिक व्यवस्था में उच्चतम निर्णय लेने वाली संस्था है। केंद्र सरकार का प्रमुख निर्धारक अंग है। यह मुख्य आपदा प्रबंधक और सभी आपातकालीन स्थितियों से निपटने है यह सभी बड़े वित्तीय मामलों से भी निपटती है तथा विदेश नीति व विदेश मामलों को देखती है।

मंत्री परिषद मंत्रिमंडल
इसमें 70 से 60 मंत्री होते हैं यह एक लघु निकाय है जिसमें 15 से 20 मंत्री होते हैं
इसमें मंत्रियों की 3 श्रेणी होती हैं  यहां केवल कैबिनेट मंत्री शामिल होते हैं अतः यह मंत्रिपरिषद का भाग है
यह सरकारी कार्यों के लिए एक साथ बैठक नहीं करती है इसका कोई सामूहिक कार्य नहीं है यह हफ्ते में एक बार बैठे करती है तथा सरकारी कार्यों के संबंध में निर्णय करती है तथा इसके कार्यकलाप सामूहिक होते हैं
केवल कागजों में सभी शक्तियां प्राप्त है यह मंत्रिपरिषद की शक्तियों का प्रयोग करती है और उसके लिए कार्य करते हैं
कार्यों का निर्धारण मंत्रिमंडल करते हैं यह मंत्रिपरिषद को राजनैतिक निर्णय लेकर निर्देश देती है तथा यह निर्देश सभी मंत्रियों पर बाध्यकारी है

किचन केबिनेट- 15 से 20 मिलकर किचन केबिनेट बनती है जिसका प्रमुख प्रधानमंत्री होता है। यह निर्णय लेने वाली उच्चतम संस्था होती है तथा इसमें PM अपने दो से चार प्रभावशाली पूर्ण विश्वास ही सहयोगी रखता है। यह प्रधानमंत्री को महत्वपूर्ण निर्णय लेने में सलाह देती है।

इसमें कैबिनेट मंत्री के साथ बाहर के सदस्य जैसे  प्रधानमंत्री के मित्र व पारिवारिक सदस्य भी शामिल हैं। यह एक छोटा अंग है तथा निर्णय लेने के मामले में कैबिनेट की विशाल आकार से अधिक प्रभावशाली है।

सभी मंत्री को अलग अलग त्यागपत्र देने की आवश्यकता नहीं है प्रधानमंत्री के त्यागपत्र का तात्पर्य हे पूरे मंत्रिपरिषद का त्यागपत्र होता है।

Cabinet Ministers of India Articles

अनुच्छेद 74- मंत्री परिषद द्वारा राष्ट्रपति को सहयोग व परामर्श देना
अनुच्छेद 75- मंत्रियों से संबंधित अन्य प्रावधान
अनुच्छेद 77- भारत सरकार द्वारा कार्यवाहियों का संचालन
अनुच्छेद 78- राष्ट्रपति को सूचना प्रदान करने से संबंधित प्रधानमंत्री के दायित्व

About the author

babajiacademy

Leave a Comment